भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"सीप-छवि / विजेन्द्र" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= विजेन्द्र }} {{KKCatKavita‎}} <poem> अन्त की लल...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
 
पंक्ति 12: पंक्ति 12:
 
एक बंदिश
 
एक बंदिश
 
एक सूरत
 
एक सूरत
मेरे अंकुंरित हो कर उगने की
+
मेरे अंकुरित हो कर उगने की
  
 
दिन की खिली पँखुड़ी ने
 
दिन की खिली पँखुड़ी ने

08:55, 26 अप्रैल 2013 के समय का अवतरण

 
अन्त की ललौंही लहक में
छिपी हे सीप-छवि
कितनी तरंग-मालाएँ चली गईं
उसे छोड़ कर निर्जन तट पर
दिक् एक स्थिति है
एक बंदिश
एक सूरत
मेरे अंकुरित हो कर उगने की

दिन की खिली पँखुड़ी ने
मुझे जगाया बरौनियों पै छू कर
गुड़हल के फूल की छवि से जाना
पूरा खिलने को चाहिए निरभ्र-समय
सुने हैं मैंने फुँफकारते सागर तट पर
लहरों के विषधर
चट्टानी तटों पर छूटा पड़ा
अँधेरे का टूटा जाल

डर का ठण्डा पत्थर हुआ है और सख्त
ऋतुएँ जो छोड़ आईं पीछे अपनी परछाएँ
वह मेरा अतीत नहीं
वह भरा है असंख्य निष्कंप रुदन से
उनके थके-हारे गान से
इस टहनी से उड़ कर अभी अभी जो पिण्डुक
गई है घने झुरमुट में
छोड़ गई है धूप के बीज उगने को

संगीत की मंजरियाँ गमकती हैं
अँधेरे कोनों में
कितना गहरा है नासूर
उसकी पीड़ा की गहनतम आँच
संशय का जहर खाता है
मेरे शतदल को

ओह कैसे भूल पाऊँगा
देखा जो अरुणोदय अरावली के पीछे
रक्त परिधान पहनने को आतुर !

(दिसम्बर, 2012, जयपुर)