भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुनो कहानी / रमापति शुक्ल

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:53, 16 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमापति शुक्ल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मस्त राम की सुनो कहानी,
है केवल दिन सात की!
नानी ने है मुझे सुनाई,
बात अभी कल रात की!
सोमवार को जन्म हुआ था,
मुंडन मंगलवार को!
धूमधाम से हुआ जनेऊ,
कहते हैं बुधवार को!
ब्याह बृहस्पतिवार हुआ,
तो लड़का शुक्रवार को।
शनिवार बीमार पड़े वे,
मर गए रविवार को।

-साभार: बच्चों के भाव गीत, रमापति शुक्ल, 15