भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह से घिरने लगी है रात / राम सेंगर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:30, 23 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राम सेंगर |अनुवादक= |संग्रह=बची एक...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रास्ते गो खुले सारे
बात बनती ही न कोई बात ।

सतत क्रम में
ख़ुशी आती ही न दीखी
तन्त्रबाधा ने बिगाड़े खेल ।
जी रहे हैं
पक्ष का प्रतिरोध लेकर
निकलना बाक़ी रहा है तेल ।
चले चक्की विषमता की
आदमी की दाँव पर औक़ात ।

जीभ खींचीं
दिमागों में ज़हर बोया
अकड़बू का
हिंस्र चौपट राग ।
ढोंग,
महिमामण्डितों की
दबी रग है
आग से
जो खेलते हैं फाग ।
हाल ही बेहाल सारा
सुबह से घिरने लगी है रात ।

रास्ते गो खुले सारे
बात, बनती ही न कोई बात ।