भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरजमुखी का फूल / एकांत श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Pradeep Jilwane (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:28, 30 अप्रैल 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: फिर आ गये है फूल सूरजमुखी के<br /> भोर के गुलाबी आईने में झांकते<br /> ची…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर आ गये है फूल सूरजमुखी के
भोर के गुलाबी आईने में झांकते
चीन्‍हते
जानी-पहचानी धरती

जैसे द्वार पर पहुंचे हुए पाहुन
वे आ गये हैं
इस बार भी
अपने समय पर

जब सिर्फ सूचनाएं आ रही हैं हत्‍या की
बाढ़, अकाल और
महामारी में मरने वाले लोगों की
देखते-देखते एक बसे बसाये शहर के
धुएं और राख में बदलने की

ऐसे दुर्गम समय में
आ गये हैं
फूल सूरजमुखी के.