भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोए हैं सब बे ख़बर किस काम का / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:53, 27 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem> सोए हैं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोए हैं सब बे ख़बर किस काम का
दर्द रोना दर ब दर किस काम का

मौत को आना है आएगी ज़रुर
ख़ौफ़ घर में इस क़दर किस काम का

लज़्ज़त ए दर्द ए जिगर लिख डालिए
जागना यूं रात भर किस काम का

हालत ए बीमार ए दिल है ज्यूं की त्यूं
चारा साज़ी का हुनर किस काम का

परबतों को काट कर चलते चलो
वरन् अपना ये सफ़र किस काम का