भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोहत हैँ सुख सेज दोऊ सुषमा से भरे सुख के सुखदायन / नंदराम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:19, 15 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नंदराम }} <poem> सोहत हैँ सुख सेज दोऊ सुषमा से भरे सु...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोहत हैँ सुख सेज दोऊ सुषमा से भरे सुख के सुखदायन ।
त्योँ नन्दरामजू अँक भरै परयँक परै चित चौगुने चायन ।
चूमत हैँ कलकँज कपोल रचैँ रस ख्यालहूँ सील सुभायन ।
साँवरी राधा गुमान करै तब गोरे गुबिन्द परैँ लगि पायन ।


नंदराम का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।