भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौंधे समीरन कौ सरदार / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
Himanshu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:41, 28 जून 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किरीट सवैया
(भ्रमरावली के मुख से वसंत-महिमा का कथन)

सौंधे समीरन कौ सरदार, मलिंदन कौ मनसा-फल-दायक ।
किंसुक-जालन कौ कलपद्रुम, मानिनी-बालन हूँ कौ मनायक ॥
कंत अनंत, अनंत कलीन कौ, दीनन के मन कौ सुख दायक ।
साँचौ मनोभव-राज कौ साज, सु आवत आज इतै ऋतु-नायक ॥७॥