भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्तुति करें रचना की / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:26, 21 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथ जुड़ गये, शीश झुक गये
देख मनोरम झांकी
स्तम्भित है तन, मोहित है मन
माया लख ईश्वर की
नीला जल, नीलाम्बर नीला
नीलछवि प्रभुता की
अन्दर बाहर एक ही धुन है
उसकी! उसकी!! उसकी!!!
राजहंस मानस में उतरे
चुगते सच के मोती
नीरक्षीर न्याय करते हैं
सुनते धुन अनहद की
ब्रह्मा ने ब्रह्मांड रचाया
स्तुति करें रचना की
चारों और ध्वनि गुंजित हो
सत्य, शिवम्, सुन्दर की
सत्यम, शिवम, सुन्दरम
सत्यम, शिवम, सुन्दरम।