भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स्त्री हूँ मैं / पूनम गुजरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी पुरुष
कभी समाज
कभी सोच
कभी मर्यादा
देते हैं मुझे धक्का
पेङ की
पतली टहनी से
पर मैं...
गिरने से पहले
सीख जाती हूँ उङना
अनंत आसमान में
जहाँ ख्वाहिशों के
सतरंगी रंग
सजते हैं
मेरी रंगोली में
आंचल में मचलती है
किलकारियाँ
क्यों कि स्त्री हूँ मैं
गिरना स्वभाव नहीं मेरा
मैं जानती हूँ
सूखे तिनकों से
घोंसला बनाने का हुनर।