भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"स्वप्न-जल ही सही / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

06:28, 2 अक्टूबर 2019 के समय का अवतरण

119
सागर पार
रुदन कर खोजे
यादों का द्वार।
120
गुम्फित तन
बीहड़ों में भटके
कोमल मन।
121
हिचकी आए
बिछुड़ा बरसों का
मीत बुलाए।
122
बर्छी -सी यादें
चुभ -चुभ जाएँ कि
रोने भी न दें।
123
रूप तुम्हारा
शुभ मुहूर्त जैसा
मन उकेरा।
124
सपना टूटा-
कहाँ गए प्रीतम
सूनी है शय्या।
125
क्रूर था मन
निरर्थक हो गए
पूजा-वन्दन ।
126
होने को भोर
ओ मेरे चितचोर
न जाओ अभी.
127
हौले से बोलो
सोया है मुसाफि़र
अर्से के बाद।
128
अश्रु थे अर्घ्य
उम्र भर चढ़ाए
माने न देव।
129
मन बेचैन
फूटेंगे कैसे फिर
सुधा- से बैन।
130
सुख देना था
अनुताप ही दिया
तुझे सम्मना ।
131
सिंचित करो
धरा-गगन प्यासे
कल्पान्त बीता।
132
हे भीगे नैनों !
अश्रुजल पिलादो
कि कण्ठ भीगे
133
हे मरुधर!
स्वप्न-जल ही सही
दो बूँद दे दो
134
हौसला बढ़ा
हाशिये पे जो लिखा-
बीज-मन्त्र था।
135
शीत पवन
रोम -रोम दहका
पाया चुम्बन ।