Last modified on 21 सितम्बर 2013, at 21:37

हमनी के रहब जानी दूनू हो परानी / भोजपुरी

   ♦   रचनाकार: महेन्द्र मिसिर

हमनी के रहब जानी दूनू हो परानी
अंगना में कींच-काँच दुअरा पर पानी
खाला ऊँचा गोर पड़ी चढ़ल बा जवानी
देश-विदेश जाल‍ऽ टूटही पलानी
केकरा पर छोड़के जालऽ टूटही पलानी
कहत महेंदर मिसिर सुनऽ दिलजानी
केकरा से आग मांगब, केकरा से पानी!