भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हमारी आग को पानी करोगे / इन्दु श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इन्दु श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem> हमारी आग को …)
 
 
पंक्ति 16: पंक्ति 16:
  
 
हया, ईमां, वफ़ा सब ख़त्म कर दी
 
हया, ईमां, वफ़ा सब ख़त्म कर दी
बचा क्या है कि कुर्बानी करोगे
+
बचा क्या है कि क़ु
 +
र्बानी करोगे
  
 
ख़ुदा से आदमी बनकर दिखाओ
 
ख़ुदा से आदमी बनकर दिखाओ
 
तो बन्दों पर मेहरबानी करोगे
 
तो बन्दों पर मेहरबानी करोगे
 
</poem>
 
</poem>

22:13, 6 मार्च 2010 के समय का अवतरण

हमारी आग को पानी करोगे
दिली रिश्तों को बेमानी करोगे

हमें ऐसी न थी उम्मीद तुमसे
कि तुम इतनी भी नादानी करोगे

यक़ीनन आँधियों से मिल गए हो
दिये के साथ मनमानी करोगे

हया, ईमां, वफ़ा सब ख़त्म कर दी
बचा क्या है कि क़ु
र्बानी करोगे

ख़ुदा से आदमी बनकर दिखाओ
तो बन्दों पर मेहरबानी करोगे