भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम को तो बे-सवाल मिले बे-तलब मिले / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:14, 10 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कलीम आजिज़ |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poem> ह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम को तो बे-सवाल मिले बे-तलब मिले
हम वो नहीं है साकी के जब माँगे तब मिले

फरियाद ही में अहद-ए-बहाराँ गुज़र गया
ऐसे खुले के फिर न कभी लब से लब मिले

हम ये समझ रहे थे हमीं बदनसीब हैं
देखा तो मैकदै में बहुत तिश्ना-लब मिले

किस ने वफा का हम को वफा से दिया जवाब
इस रास्ते में लूटने वाले ही सब मिले

मिलते हैं सब किसी न किसी मुद्दआ के साथ
अरमान ही रहा के कोई बे-सबब मिले

रक्खा कहाँ है इश्क ने ‘आजिज़’ को होश में
मत छेड़ियो अगर कहीं वो बे-अदब मिले