भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम तुम मोहरे हैं / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:52, 19 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मित्र, हम तुम मोहरे हैं
उनके हाथ में।
प्यादे हों या घोड़े
ऊँट या हाथी, राजा या वजीर
हम खुद चलें-हमारी क्या बिसात
ढाई घर की हो-या सीधी-सादी चालें
हमारी किस्मत के खरीदार
निर्धारित करते हैं,
हमारी क्या मजाल, जो सोचें
मिलेगी शह या मात
हम, एक महान षड्यन्त्र
का शिकार होकर भी अनजान
एक दूसरे के प्रतिद्वन्दी बने
सींचते रहे अपने सर्जकों के
ऐशो आराम के स्वप्न
देते स्वयं को घात-प्रतिघात!
मित्र! आओ छेड़ें जिहाद
सामंती स्वपनों के विरुद्ध
चौखट से बाहर आने की
संभावनायें क्षीण सही
मृत तो नहीं।
आओ जिलायें इन्हें
और रोक दें बढ़ते हुये हाथ।
हाथ, वे, बड़े ताकतवर हैं
हमारा अस्तित्व बहुत कमजोर,
बहुत बौना, भले ही हो
किन्तु हमारा शक्तिपुंज है
अपरिमित और अपराजेय
मुट्ठियां कसें और गुंजा दें मंत्र
प्रतिवाद! प्रतिवाद!! प्रतिवाद!!