भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"हम तो एक बार उसके हो जायें / अमजद हैदराबादी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: हम तो एक बार उसके हो जायें। वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥ ढूँढ़ता हूँ ...)
 
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
+
{{KKGlobal}}
 
+
{{KKRachna
 +
|रचनाकार= अमजद हैदराबादी
 +
}}
 +
{{KKCatGhazal}}
 +
<poem>
 
हम तो एक बार उसके हो जायें।
 
हम तो एक बार उसके हो जायें।
 
 
वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥
 
वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥
 
  
 
ढूँढ़ता हूँ मैं हर नफ़स<ref>सांस</ref> उसको।
 
ढूँढ़ता हूँ मैं हर नफ़स<ref>सांस</ref> उसको।
 
 
एक नफ़स<ref>लम्हा</ref> मुझसे जो जुदा न हुआ॥
 
एक नफ़स<ref>लम्हा</ref> मुझसे जो जुदा न हुआ॥
 
  
 
क्या मिला वहदते-वजूदी से<ref>एक-ईश्वरवाद से</ref>?
 
क्या मिला वहदते-वजूदी से<ref>एक-ईश्वरवाद से</ref>?
 
 
बन्दा, बन्दा रहा, खुदा न हुआ॥
 
बन्दा, बन्दा रहा, खुदा न हुआ॥
 
  
 
बन्दगी में यह किब्रयाई<ref>अभिमान</ref> है?
 
बन्दगी में यह किब्रयाई<ref>अभिमान</ref> है?
 
 
ख़ैर गुज़री कि मैं ख़ुदा न हुआ॥
 
ख़ैर गुज़री कि मैं ख़ुदा न हुआ॥
 
 
  
 
{{KKMeaning}}
 
{{KKMeaning}}
 +
</Poem>

23:18, 4 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण

हम तो एक बार उसके हो जायें।
वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥

ढूँढ़ता हूँ मैं हर नफ़स[1] उसको।
एक नफ़स[2] मुझसे जो जुदा न हुआ॥

क्या मिला वहदते-वजूदी से[3]?
बन्दा, बन्दा रहा, खुदा न हुआ॥

बन्दगी में यह किब्रयाई[4] है?
ख़ैर गुज़री कि मैं ख़ुदा न हुआ॥

शब्दार्थ
  1. सांस
  2. लम्हा
  3. एक-ईश्वरवाद से
  4. अभिमान