भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हम तो एक बार उसके हो जायें / अमजद हैदराबादी

Kavita Kosh से
चंद्र मौलेश्वर (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:33, 17 जुलाई 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: हम तो एक बार उसके हो जायें। वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥ ढूँढ़ता हूँ ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हम तो एक बार उसके हो जायें।

वो हमारा हुआ, हुआ, न हुआ॥


ढूँढ़ता हूँ मैं हर नफ़स[1] उसको।

एक नफ़स[2] मुझसे जो जुदा न हुआ॥


क्या मिला वहदते-वजूदी से[3]?

बन्दा, बन्दा रहा, खुदा न हुआ॥


बन्दगी में यह किब्रयाई[4] है?

ख़ैर गुज़री कि मैं ख़ुदा न हुआ॥


शब्दार्थ
  1. सांस
  2. लम्हा
  3. एक-ईश्वरवाद से
  4. अभिमान