भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हम त सुनीले सखी राम जी पहुनवाँ से / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:52, 11 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेन्द्र मिश्र |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम त सुनीले सखी राम जी पहुनवाँ से
बिहनवें सबेरे चलि जइहें हो लाल।
नीको ना लागे सखि घरवा दुअरवा से
नीकहुँ ना लागेला भवनवाँ हो लाल।
हमनीका जनिती जो राम निरमोहिया
त हमनी सनेहियो ना जोरतीं हो लाल।
हमनी का जनि तंजे राम चलि जइहें
त हमहु किरियवा धरइतीं हो लाल।
एक मन करे सखी संगे चलि जइतीं
दूसर लागे कुलवा के लाजवा हो लाल।
एक मन करे सखी संगे चलि जइतीं
दूसर लागे कुलवा के लाजवा हो लाल।
हँसी-हँसी पूछेली जनकपुर के नारी से
जोरलो सनेहिया जनी तूड़िहऽ हो लाल।
जो तुहूँ जइहऽ राम जी अवध नगरिया तऽ
हमनी के संगे लेले चलिहऽ हो लाल।
दूलहा के देखि मोरा जियरा लोभइले
से देखहुँ के होइहें सपनवाँ हो लाल।
निरखे महेन्द्र मोहे सभके परनवाँ से
सनेहिया लगा के दागा कइलें हो लाल।