भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम पाहुने / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:47, 11 जुलाई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


57
भोर में भानु
पुर्जे -पुर्जे करता,
लिखी जो पातीं।
58
तुम जोड़ना
टूटे हुए आखर
पढ़ो सन्देसा।
59
चीख थी मेरी
पहचान न पाया
गूँजा था वन।
60
लिखो आग से
अनुरागी आखर
खुली हथेली।
61
था दर्द किसी
भीगे नैन बावरे
दुत्कार मिली।
62
भरी भीड़ है
रक्त-पिपासु दिखे,
भोले चेहरे।
63
बूँद टपकी
नभ या नयन से
किसने जाना !
64
दिन डूबा है
बन्द कर लो द्वार
बिदा दो अब !
65
हम पाहुने
कुछ दिन के ही थे
चलना होगा !
66
टूटे हैं रोज़
जुड़ने में निकली
पूरी ज़िन्दगी।