Last modified on 6 अक्टूबर 2015, at 20:05

हम बाहर से झाँकें / प्रदीप भटनागर

Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:05, 6 अक्टूबर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रदीप भटनागर |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

एक पते की बात बताऊँ
ओ चूहों के राजा,
‘मेरी दादी के बक्से में रक्खा खूब बताशा’।

एक बना के छोटा-सा बिल
चुपके से घुस जाओ,
लेकर के फिर सभी बताशे
फिफ्टी-फिफ्टी खाओ।

मगर कहीं ऐसा ना करना
लेकर सभी बताशे,
तुम अपने बिल में घुस जाओ
हम बाहर से झाँकें!

-साभार: हीरोज क्लब पत्रिका, इलाहाबाद