भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरिता / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
Abha Khetarpal (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:16, 30 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजय कुमार पंत }} {{KKCatKavita}} <poem> स्वपन स्पंदन चिर परिच…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


स्वपन स्पंदन चिर परिचित
कलियों की कोमल अंगडाई
कलरव करता जल नदिया का
उन्नत पर्वत की तरुणाई!
भीगे त्रिन, पल्लव,कुसुम गंध
लहराते वृक्ष विटप भारी
मदमाती यौवन क्षुदा लिए
लिपटी है तन पर अमराई!
विह्वल सागर उत्ताल नृत्य
देता अम्बर को ज्ञान नया
ऊँचा भी है सब अर्थ हीन
न हो किंचिद भी गहराई!
दल शतदल गुंजित भ्रमर राग
मन हर लेते है बार बार
कर शांत क्लांत मन की पीड़ा ..
देती है भवसागर उतार
हरि हर हर कहती हरितायी