भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर हर्फ़-ए-आरज़ू पे करे था वो यार बहस / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:38, 1 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='ममनून' निज़ामुद्दीन |संग्रह= }} {{KKCatG...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर हर्फ़-ए-आरज़ू पे करे था वो यार बहस
एक एक बात पर थी उसे शब हज़ार बहस

लाए है खींच आरज़ू-ए-ज़ख़्म दूर से
कहो वार पर न क़ातिल ख़ंजर-गुज़ार बहस

हैरत-ज़दों को महफ़िल-ए-तस्वीर की तरह
ने है शिआर-ए-रम्ज़-ओ-किनाया न कार-ए-बहस

या ज़िक्र-ए-दोस्त या है ज़बाँ पर हदीस-ए-इश्क़
जूँ अहल-ए-मदरसा नहीं अपना शिआर बहस

तकरार से दिल अपना जो माँगा कहा कि चल
मिलता है कोई ये न अबस बार बार बहस

कीजे अगर गिला तो तरफ़-दार यार हो
आप ही लगाए मुझ से दिल-ए-बे-क़रार बहस

‘ममनूँ’ मुझे नसीहत-ए-साइब ये याद है
ता सुल्ह मुमकिन अस्त मकुन ज़ीन्हार बहस