भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हाथी और केले वाला / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:19, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

हाथी जी ने सुबह-सुबह से,
खाये साठ परांठे।
केले की दुकान पर जाकर,
दो सौ केले छांटें।
केले वाला बोला भाई,
पहले पैसे लाओ।
पैसे चुक जाएँ, केलों में,
तब ही सूंड लगाओ।
हाथी को अंदाज़ ज़रा भी
उसका यह न भाया।
उठा सूंड से केले वाले,
को ही घर ले आया।
केले वाला काँप रहा है,
थर-थर उसके आगे।
ढूँढ रहा है मौका कैसे,
उसे छोड़कर भागे।