भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"हादसों पर गोष्ठियां / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 14: पंक्ति 14:
  
 
जितने हादसे और भ्रष्टाचार  
 
जितने हादसे और भ्रष्टाचार  
उतनी ही गोष्ठियां,
+
उतनी ही गोष्ठियां
 +
 
उन्हें हादसों का इंतज़ार भी नहीं करना पड़ता,
 
उन्हें हादसों का इंतज़ार भी नहीं करना पड़ता,
 
गोष्ठी-कक्षों से निकलते ही  
 
गोष्ठी-कक्षों से निकलते ही  
पंक्ति 27: पंक्ति 28:
  
 
उन्हें क्या पड़ी है कि
 
उन्हें क्या पड़ी है कि
वे हादसों के न होने की युक्तियाँ करें,
+
वे हादसों के न होने की युक्तियाँ करें  
 
समय रहते सरकार को आग़ाह करें  
 
समय रहते सरकार को आग़ाह करें  
कि हादसे अंजाम तक न पहुंच पाएं  
+
--कि हादसे अंजाम तक न पहुंच पाएं  
  
 
उन्हें बड़ी महारत हासिल है  
 
उन्हें बड़ी महारत हासिल है  

14:05, 16 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण

हादसों पर गोष्ठियां

 

वे गोष्ठियों में लगे होते हैं
जैसे कामी कामनियों संग

जितने हादसे और भ्रष्टाचार
उतनी ही गोष्ठियां
 
उन्हें हादसों का इंतज़ार भी नहीं करना पड़ता,
गोष्ठी-कक्षों से निकलते ही
कोई हादसा उनका स्वागत करता है
--फटी आंखें एवं मुंह बाए हुए--
और वे पुन: गोष्ठी कक्षों में चले जाते हैं

उन्हें ईश्वर को धन्यवाद देने का
मौक़ा भी नहीं मिलता
कि 'भगवन! हादसों को आबाद रखना
ऐसा हमारी रोजी-रोटी के लिए बहुत ज़रूरी है'

उन्हें क्या पड़ी है कि
वे हादसों के न होने की युक्तियाँ करें
समय रहते सरकार को आग़ाह करें
--कि हादसे अंजाम तक न पहुंच पाएं

उन्हें बड़ी महारत हासिल है
हादसों के बाद बहस करने में,
हम सभी क्या सारा आवाम जानता है
कि उनकी नपुंसक बहस
कोई नतीजा प्रसवित नहीं कर पाएगी.

(सृजन संवाद, सं. ब्रजेश, अंक ९, २००९, लखनऊ)