भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हारे वाला ऊँची-नीची सरवर पाल / मालवी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:27, 29 अप्रैल 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हारे वाला ऊँची-नीची सरवर पाल
जमई धावे धोपती जी म्हारा राज
हांरे वाला कोनस राम रा गज भीम
कोणजी घर पावणा जी म्हारा राज
हां वो दासी ताता-सा पाणी समोव
जमई न्हावे न्हावणा जी म्हारा राज
हां वो बाई ताता सा भोजन परोस
जमई जीने जीमणा जी म्हारा राज
हां वो दासी ठंडी सी झारी भरलाव
जमई पीवे पीवणी जी म्हारा राज
हां वो दासी पाना रा विड़ला लगाव
जमई बीड़ा चावसी जी म्हारा राज
हां वो दासी मेलां में दिवलो संजोव
चमई चौपड़ खेलरन्यां जी म्हारा राज
हां वो दासी तेलां री खबर मंगाव
न्योण हारिया ने कोण जीत्याजी म्हारा राज
हां वो वाई हरिया साता-पाचां री
रामां री बाई जीत्याजी म्हारा राज
हां रे वाला आई जमायां ने रीस
वाई ने ताज्या ताजणा जी म्हारा राज
हां रे वाला आई जमाई जी ने रीस
भेलां से नीचे ऊतरियाजी म्हारा राज
हां रे वाला दई-दई दादाजी री आन
वाई ने पाछा फेरिया जी म्हारा राज
हां रे वाला दई-दई वीराजी री आन
वाई ने पाछा फेरियाजी म्हारा राज