भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिंदी मां है हमारी / कपिल भारद्वाज

Kavita Kosh से
Sandeeap Sharma (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:03, 19 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कपिल भारद्वाज |अनुवादक= |संग्रह=स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिंदी मां है हमारी,
और वृद्धाश्रमों का निर्माण इसलिए किया गया है,
कभी-कभी अंगूठे की जरूरत पड़ने पर याद करते हैं हम ।

उर्दू को मौसी माना हमने,
जिसे कैकेयी की संज्ञा से विभूषित कर दिया,
जिसने रामराज्य को विलम्बित करके,
धर्माचार्यों को आशंकित कर दिया था ।

अंग्रेजी को वाइफ समझ रखा है,
जो अत्यधिक प्यार से बिगड़कर,
रणचंडी बन बैठी है,
हमारे सिरों पर लटकाती रहती है एक तलवार,
जिसके ख़ौफ़ में हमने,
अपनी ‘माँ’ के लिए एक दिन मुकर्रर कर दिया ।

असल मे सवाल भाषा का नहीं
अपनी जड़ों से कटने का है ।