भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुआ सबेरा / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:11, 14 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रदीप शुक्ल |अनुवादक= |संग्रह=अम...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किरनों ने कुण्डी खटकाई
हुआ सबेरा
सूरज ने दुन्दुभी बजाई
हुआ सबेरा

अलसायी सी
रात उठी
घूँघट झपकाये
तारों की बारात कहीं
अब नज़र न आये
पूरब में लालिमा लजाई
हुआ सबेरा

हरी दूब पर
एक गिलहरी
दौड़ लगाये
सूरजमुखी खड़ी है लेकिन
मुँह लटकाये
ओस बूँद से कली नहाई
भोर हो रही
जूठे बासन
बोल रहे
चौके के भीतर
कल का बासी दूध
जा रही बिल्ली पीकर
मुँह पर उसके लगी मलाई
हुआ सबेरा

ले आया
अखबार
दाल के भाव घरों में
हम अपनी ही बात
ढूँढते हैं ख़बरों में
आओ, दो कप चाय बनाई
हुआ सबेरा