भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

हे राम ! / सांवर दइया

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:29, 5 जुलाई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: <poem>प्रार्थना से पूर्व शिष्य के रूप में हत्यारा आ खडा हुआ सामने जै…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रार्थना से पूर्व
शिष्य के रूप में
हत्यारा आ खडा हुआ सामने
जैसे हमारे बीच
अब भी रहता है भेडिया
ओढ़कर गाय की खाल

प्रणाम की मुद्रा में जुड़े हाथ
हाथों में तमंचा
तमंचे मे गोलियां
गोलियां सीने के आर-पार

धांय- धांय- धांय
के बीच अक्षय वाणी
हे राम !

आज भी होती है प्रार्थना
आज भी चलती हैं गोलियां
लेकिन
प्रणाम की मुद्रा में जड़ते नहीं हाथ
कहीं भी
किसी भी वक्त
आ धमकता है भेडिया
और छोड़ जाता है खून के निशान

फिर इकट्ठी होती है भीड़
सूखी संवेदना के शब्द-
हे राम !