भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होत आवेरो म्हारा धाम को / निमाड़ी

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:35, 19 अप्रैल 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=निमाड़ी }...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    होत आवेरो म्हारा धाम को,
    गुरु न भेज्यो परवाणो

(१) हम कारज निर्माण किया,
    आरे परमेश्वर को जाणु
    मुल रच्यो निजधाम को
    जाकर होय रे ठिकाणु...
    होत आवेरा...

(२) ओ सल्ला बिहार के,
    काई लावो रे बयाना
    कस के कमर को जायगो
    जामे साधु समाना...
    होत आवेरा...

(३) बहु सागर जल रोखीयाँ,
    देव जबर निसाणी
    चेहरा हो देखो निहार के
    काहे दल को हो धाम...
    होत आवेरा...

(४) नाम शब्द को राखजो,
    आरे बैकुंट को जाणु
    सब संतन का सार है
    चाहे होय परवाणो...
    होत आवेरा...

(५) तीरुवर परवाणो कीजीये,
    नही देणा रे भेद
    गुरु मनरंग पहिचाणिया
    मानो वचन हमारो...
    होत आवेरा...