भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होने तक / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:03, 16 सितम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होने तक

कई नाचीज़ बातों के होने तक
यह अविलंबनीय बात रुकी रह सकती है,
कई माँओं के प्रसव-पीड़ा होने तक
यह मरणासन्न बच्चा गर्भ में जीवित रह सकता है,
कई युगों के गुज़रने तक
यह बेचैन क्षण किसी सुखद होनी पर टला रह सकता है,
डाक्टरों के हड़ताल से लौटने तक
यह अधमरा रोगी अपनी सांसें थामे रह सकता है,
कई चेहरों पर से मुखौटा हटने तक
यह चेहरा असली बना रह सकता है,
कई लाशों के चितासीन होने तक
यह लाश अपनी बारी की प्रतीक्षा कर सकता है,
कई फ़िज़ूल किताबों के प्रकाशित होने तक
यह उम्दा लेखक अपनी पांडुलिपियाँ दीमक से बचाए रह सकता है,
कई रातों के ढलने तक
चाँद एक भयानक रात के खौफ से बचा रह सकता है.