भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होली का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:18, 19 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= रमेश र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ न !
रंगों को जेल से छुड़ाएँ ।
होली के नए गीत गाएँ ।।
              आओ नाऽऽऽ ।

तोड़ो ना ! नींद एक साल की
                    गुलाल की
अलमारी में जिसकी बड़ी
                देखभाल की

आओ ना !
रंगों की धूल-सी उड़ाएँ ।
होली के नए गीत गाएँ ।।
होली के नए गीत गाएँ ।।
              आओ नाऽऽऽ ।

दीवारों की उजली साड़ी
                मैली करें
चलो किसी नलके से ही
                गुब्बारे भरें

आओ ना !
एक गेंद तड़ी-सी मचाएँ ।
होली के नए गीत गाएँ ।।
              आओ नाऽऽऽ ।