भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"होली है / लाल्टू" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लाल्टू |संग्रह= }}<poem>भरी बहार सुबह धूप धूप के सीने…)
 
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=लाल्टू
 
|रचनाकार=लाल्टू
 
|संग्रह=  
 
|संग्रह=  
}}<poem>भरी बहार सुबह धूप
+
}}<poem>
 +
{{KKAnthologyHoli}}
 +
भरी बहार सुबह धूप
 
धूप के सीने में छिपे ओ तारों नक्षत्रों
 
धूप के सीने में छिपे ओ तारों नक्षत्रों
 
फागुन रस में डूबे हम
 
फागुन रस में डूबे हम

19:10, 15 मार्च 2011 के समय का अवतरण


भरी बहार सुबह धूप
धूप के सीने में छिपे ओ तारों नक्षत्रों
फागुन रस में डूबे हम
बँधे रंग तरंग
काँपते हमारे अंग।

छिपे छिपे हमें देखो
सृष्टि के ओ जीव निर्जीवों
भरपूर आज हमारा उल्लास
खिलखिलाती हमारी कामिनियाँ
कार्तिक गले मिल रहे
दिलों में पक्षी गाते सा रा सा रा रा।

रंग बिरंगे पंख पसारे
उड़ उड़ हम गोप गोपियाँ
ढूँढते किस किसन को
वह पागल
हर सूरदास रसखान से छिपा
भटका राधा की बौछार में

होली है, सा रा सा रा रा, होली है।