भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो गए हम कत्ल या फिर बच गए इस बार हम / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:50, 22 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिवशंकर मिश्र |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो गए हम कत्ल य़ा फिर बच गए इस बार हम
देखते हैं रोज उठकर सुब्ह का अखबार हम

क्या पता उन का भी अब, हैं भी कहीं या चल बसे
कर रहे हैं चिट्ठियों का कब से इंतेजार हम

और पुख्ता, और ऊँची रात-दिन होती गयी
तोड़ने को तोड़ते ही हैं रहे दीवार हम

गाल उन के फूले, तैरे मछलियाँ आस्तीनों में
डूबी आँखे, कंधे बैठे, पेट से लाचार हम

वे लड़ाएँ, हम लड़ें, मर जाएँ, वे मारें नहीं
ओहदों में वे थिरकते और हैं बेजार हम

खेल उन का , खेलें हम पर, उन की बाजी, जीत हर
रेस की घोड़ी नहीं बनने को अब तैयार हम

शब्द चलते हैं, पहुँचते ‘मिशरा’ जब संघर्ष तक
स्वपन कविता के तभी कर पाते हैं साकार हम