भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"‘भूख’ / जंगवीर स‍िंंह 'राकेश'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जंगवीर स‍िंंह 'राकेश' |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
 
कमजोर नहीं होते, बेचारे होते हैं।
 
कमजोर नहीं होते, बेचारे होते हैं।
  
निकल आते हैं सड़कों
+
निकल आते हैं सड़कों पर
 
बाजारों में, कभी चौराहों पर
 
बाजारों में, कभी चौराहों पर
 
पेट के वास्ते दर-दर भटकते हैं
 
पेट के वास्ते दर-दर भटकते हैं
पंक्ति 26: पंक्ति 26:
 
झूठा वरना लगता है अधिकार पालना
 
झूठा वरना लगता है अधिकार पालना
 
धूल, कंकड़, मिट्टी, रोटी सब है मिट्टी
 
धूल, कंकड़, मिट्टी, रोटी सब है मिट्टी
मिलती नही है सही किमत फिरभी फसल की
+
मिलती नही है सही कीमत फिरभी फसल की
 
तभी तो बेचारे, फाँसी लगाकर,
 
तभी तो बेचारे, फाँसी लगाकर,
 
फंदों में झूले होते हैं, और,
 
फंदों में झूले होते हैं, और,
पंक्ति 44: पंक्ति 44:
 
प्यार-व्यार वही करते हैं,
 
प्यार-व्यार वही करते हैं,
 
जिनके पेट भरे होते हैं
 
जिनके पेट भरे होते हैं
 +
 
जो सपनों में खोये होते हैं,
 
जो सपनों में खोये होते हैं,
 
लोग वही भूखे होते हैं ।
 
लोग वही भूखे होते हैं ।
 
</poem>
 
</poem>

12:11, 3 अक्टूबर 2018 के समय का अवतरण

जिनके पेट भरे होते हैं,
मस्त आलम में वो जीते हैं
जो बचपन बेचकर कमाते हैं, न
बच्चे वही भूखे होते हैं ।
जो किस्मत के मारे होते हैं
कमजोर नहीं होते, बेचारे होते हैं।

निकल आते हैं सड़कों पर
बाजारों में, कभी चौराहों पर
पेट के वास्ते दर-दर भटकते हैं
एक-एक निवाले की जो कीमत समझते हैं
भूख के बदले में, भूख खाकर,
सोते नहीं, पर सोते हैं,
बच्चे जो भूखे होते हैं ।

किसान की मजबूरी है परिवार पालना
झूठा वरना लगता है अधिकार पालना
धूल, कंकड़, मिट्टी, रोटी सब है मिट्टी
मिलती नही है सही कीमत फिरभी फसल की
तभी तो बेचारे, फाँसी लगाकर,
फंदों में झूले होते हैं, और,
नेता, सरकारें रोज, मौज में,
नींद चैन की खूब सोते हैं
साहब! इनके पेट भरे होते हैं,
हाँ! इनके पेट भरे होते हैं ।

कोई उम्रभर इत्र की खुशबू में जीता है
कोई उम्रभर गरीबी की बदबू में जीता है
अमीर लोग जमीं पर नही होते,
कारों, बंगलों, हवाई जहाजों में होते हैं
और गरीब सिर्फ जमीं पर होता है
यहीं घिसता है, यहीं पर मरता है
जिंदगी भर जो गम ढोते हैं
जिंदगी नहीं जीते, रोते हैं
प्यार-व्यार वही करते हैं,
जिनके पेट भरे होते हैं

जो सपनों में खोये होते हैं,
लोग वही भूखे होते हैं ।