भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

उजेरा-अन्धेरा / राधेश्याम प्रगल्भ

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:21, 22 फ़रवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राधेश्याम प्रगल्भ |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन के उजेरे में
न करो कोई ऐसा काम,
नींद जो न आए तुम्हें
रात के अन्धेरे में ।

और

रात के अन्धेरे में
न करो कोई ऐसा काम
मुँह जो तुम छिपाते फिरो
दिन के उजेरे में ।