भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

भक्ति चेतावनी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:08, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौल करार विसारत हो, कित लागत बात वरावरु रे।
मालिक नाम गयंदहि छोड़ि, बखानत पाट पटम्बरु रे॥
संपति है वन संपति ढेरु, कहो कोउ लेइ गयो वपुरे।
धरनी नर-देह कहाफल जो, नहि जानु अलाह अकब्बरु रे॥11॥