भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ख़ुशी के आंसू / शांति सुमन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:05, 25 फ़रवरी 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शांति सुमन |संग्रह= }} <poem> उनके घरों...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उनके घरों की तस्वीरें हंसती हैं,
अपने घर की दीवारें रोती हैंं ।

जोड़ रही उँगली पर आधे
अपने बीते दिन को
कितने कब भूखे सोए बच्चे
लगे गडाँसे मन को
बिना जले वह धुआँ -धुआँ होती है ।
 
दिनों से दीखा कुछ नहीं कभी
ख़ुशी के आंसू जैसा
दरवाज़े तक बहुत उड़ा
है काग़ज़ सांसों का
बदली हुई हवा नारे बोती है ।

नींदों भरे सपनों से उसको
हासिल नहीं हुआ जो
संगीत के उम्मीद के
जिला -जिला रखती जो
कठिन हौंसले ही मन के मोती हैं ।