भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पाना-चुकाना / मालचंद तिवाड़ी

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:25, 8 जनवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मालचंद तिवाड़ी |संग्रह= }}‎ {{KKCatKavita‎}}<poem>पढ़ाता हूं…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पढ़ाता हूं क्लास में
क्या है एसेट्स
क्या लायबिलीटीज
विचार करता हूं-
तुम क्या हो मेरे लिए ।

क्या तुमसे पाना है
कि कुछ चुकाना है ?

यदि पाकर चुका कर
पार उतरना है
तो किसके
अपने या तुम्हारे ?

अनुवादः नीरज दइया