भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

उमीद क्या थी मगर क्या दिखाई देता है / सुमन ढींगरा दुग्गल

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ४ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:16, 23 मार्च 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुमन ढींगरा दुग्गल |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर एक शहर सुलगता दिखाई देता है
उमीद क्या थी मगर क्या दिखाई देता है

अजब फरेब की आदत लगी है दुनिया को
हर एक चेहरे पे चेहरा दिखाई देता है

तेरे दयार में सब खूबरू तो हैं लेकिन
कहाँ कोई तेरे जैसा दिखाई देता है

ए काश अब्रे करम टूट कर बरस जाये
तमाम सहरा ही प्यासा दिखाई देता है

जो तेरे हिज्र मे टपके हैं आँख से आँसू
हर एक अश्क में दरिया दिखाई देता है

सुना है चाँद सितारे नज़र चुराते हैं
जब उन को आपका चेहरा दिखाई देता है

तुम्हारे नाम से बदनाम हो रहे हैं हम
हमारा इश्क पनपता दिखाई देता है