भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दर्द के मारे आँख से बहते- बहते बहकर बनता है / गौरव त्रिवेदी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:29, 10 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव त्रिवेदी |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्द के मारे आँख से बहते- बहते बहकर बनता है,
ऐसे ही थोड़े ना कोई भी दिल पत्थर बनता है,

मंज़िल के मिलने से पहले रोड़े तो मिलते ही हैं,
दीवारें उठती हैं पहले तब ही तो घर बनता है,

शायर वो जो महबूबा सा प्यार करे अपने ग़म से,
ग़म का मारा हर कोई थोड़े ही शायर बनता है,

बाग़ी इक इंसान नहीं है बाग़ी सारी दुनिया है,
जिसको हम बाग़ी कहते हैं हम में रहकर बनता है,

सबकुछ सहना पर चुप रहना, एक तपस्या जीवन भर,
पूरा दिल लगता है तब ये ढाईं आखर बनता है