भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

क़हर से देख न हर आन मुझे / नासिर काज़मी

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:44, 16 नवम्बर 2007 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नासिर काज़मी |संग्रह=मैं कहाँ चला गया / नासिर काज़मी }} ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़हर से देख न हर आन मुझे
आँख रखता है तो पहचान मुझे

यकबयक आके दिखा दो झमकी
क्यों फिराते हो परेशान मुझे

एक से एक नयी मंजिल में
लिए फिरता है तिरा ध्यान मुझे

सुन के आवाज-ए-गुल कुछ न सुना
बस उसी दिन से हुए कान मुझे

जी ठिकाने नहीं जब से ‘नासिर’
शहर लगता है बयाबान मुझे