भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बीज बोया है फसल काटेंगे / राजेश चड्ढा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:25, 14 जुलाई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राजेश चड्ढा |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poem> बीज बोया है फस…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

  
बीज बोया है फसल काटेंगे,
दर्द बोया है ग़ज़ल काटेंगे ।

आपकी उम्र बड़ी कीमती है,
ज़िन्दगी सूद सी हम काटेंगे ।

रोज़ा जब रोज़ की ज़रूरत हो,
ईद पर मिलकर भूख बाँटेंगे ।

आप उसूलों की बात करते हैं,
आप थूकेंगे आप चाटेंगे ।