भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

किस कदर मुझ को ना-तवानी है / फ़कीर मोहम्मद 'गोया'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:50, 1 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=फ़कीर मोहम्मद 'गोया' |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किस कदर मुझ को ना-तवानी है
बार-ए-सर से भी सर-गिरानी है

हम नहीं शमा हों जो अश्‍क-फिशां
कार-ए-उष्षाक़ जाँ-फ़िषानी हैं

दिल भी उस से उठा नहीं सकते
ना-तवानी सी ना-तवानी है

क़द-ए-मौजूँ के इशक़ में ‘गोया’
रात दिन शुग़्ल-ए-शेर-ख़्वानी है