भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तुम ही तोड़ गए थे / रुस्तम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:21, 25 नवम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रुस्तम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poe...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम ही छोड़ गए थे मुझे।
तुम ही।
(मैंने नहीं कहा था।)

तुम ही तोड़ गए थे,
मुझे तोड़ गए थे!

दुख
जो मुझसे बड़ा था
तुम उसका मुँह
मेरी ओर
मोड़ गए थे।