भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

भोर / निलय उपाध्याय

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:11, 27 मई 2020 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि इस वीडियो के साथ कोई समस्या है तो
कृपया kavitakosh AT gmail.com पर सूचना दें

सरग के पार नदी में
छप-छप
नहातिया एगो मेहरारू

सोना के थरिया में अछत-दूब लेके
पुरइन के पतई प खाड़ होई
खाड़ होई
महावर से रचल पाँव

घूघ हटाई आ राँभे लागी गाय
घूघ हटाई
आ नाद प दउर जइहें बैल

झाड़ू उठाई
झक-झक साफ करी घर
चूड़ी बजाई... जगाई -
उठऽहो
जाय के बा तहरा
पहाड़ के ओह पार...