भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सती / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:05, 19 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरनी साहस कीजिये, साहसते सिधि होय।
बिनु साहस संसार में, सिधि पावै न कोय॥1॥

धरनी अपने पिय लगी, जरिये ढोल बजाय।
चहुँदिशि चर्चा होइ रहै, जन्म सुफल होइ जाय॥2॥

धरनी जग जीवन नहीं, मरु जग-जीवन लागि।
नख-शिख देहहिं दाहिये, बिनु काठी आगि॥3॥

मूये नर-संग जो जरै, ताको बखान।
धरनी पिय देखत जरै, तेहि समान नहि आन॥4॥

धरनी सती सराहिये, सत्या छोडै नाहि।
हित के आतम-राम सो, बाँटि 2 धन खाहि॥5॥

धरनी सती सराहिये, सत-मारग उठि लागु।
रज तम दुइ पथ परिहरै, युग 2 ताहि सोहागु॥6॥

सती सात विरियाँ जरै, राम-भक्ति तब पाव।
मुक्ति होय धरनी कहै, सुनहु लोग सति-भाव॥7॥