भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जब लफ़्ज़ थक गए तो सहारा नहीं दिया / रवि ज़िया

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:24, 30 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रवि ज़िया |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब लफ़्ज़ थक गए तो सहारा नहीं दिया
ख़ामोशियों ने साथ हमारा नहीं दिया।

यूँ तो फ़लक ने चाँद मिरे नाम कर दिया
जिस की तलाश थी वो सितारा नहीं दिया।

इक शख़्स पूछता रहा बस्ती में देर तक
लेकिन पता किसी ने हमारा नहीं दिया।

गहरे समुंदरों की फ़ज़ा रास आ गई
अच्छा किया कि दिल को किनारा नहीं दिया।