भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ये मह्व हुए देख के बे-साख़्ता-पन को / हैरत इलाहाबादी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:11, 12 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हैरत इलाहाबादी }} {{KKCatGhazal}} <poem> ये मह्व ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मह्व हुए देख के बे-साख़्ता-पन को
आईने में ख़ुद चूम लिया अपने दहन को

करती है नया रोज़ मिरे दाग़-ए-कुहन को
ग़ुर्बत में ख़ुदा याद दिलाए न वतन को

छोड़ा वतन आबाद किया मुल्क-ए-दकन को
तक़दीर कहाँ ले गई यारान-ए-वतन को

क्या लुत्फ़ है जब मोनिस ओ यावर न हो कोई
हम वादी-ए-ग़ुर्बत ही समझते हैं वतन को

मुरझाए पड़े थे गुल-ए-मज़्मून हज़ारों
शादाब किया हम ने गुलिस्तान-ए-सुख़न को

ख़िदमत में तिरी नज़्र को क्या लाएँ ब-जुज़ दिल
हम रिंद तो कौड़ी नहीं रखते हैं कफ़न को