भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

नई बहू घर में आई है बन्दनवार लगे / योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:01, 31 मई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’ }} {{KKCatNavgeet}} <poem> नई बहू घर मे…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नई बहू घर में आई है
बन्दनवार लगे

चीज़ों से जुड़ना बतियाना
पीछे छूट गया
पहली बारिश की बूँदों-सा
सब कुछ नया-नया

कुछ महका-सा कुछ बहका-सा
यह संसार लगे

संकेतों की भाषा नूतन
अर्थ गढ़े पल-पल
मूक-बधिर अँखियाँ भी करतीं
कभी-कभी बेकल

गंध नहाई हवा सुबह की
भी अंगार लगे

परीलोक की किसी कथा-सा
आने वाला कल
ऊबड़-खाबड़ धरा कहीं पर
और कहीं समतल

कोमल मन में आशंकाओं
के अंबार लगे