भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ओ प्रेम / सिया चौधरी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:46, 27 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सिया चौधरी |अनुवादक= |संग्रह=थार-स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं मत सोचजै रामूड़ा
कै ओ प्रेम
लूवां बाजती
दोपारी में मिलै
जकी छिंयां है...।

अरे बावळा
ओ तो
इस्यो तपतो तावड़ो है
कै पग मेलतां
फाला उपड़ जावै...।

आ भी मत सोची
कै ओ प्रेम
दिनूगै आळो
दई-छाछ रो
कळेवो है जिणनै
थूं गटागट गिट जावै।

ओ तो बो जैर है
जकै नै थूं
नीं गिट सकै
अर नीं सोरै सांस
थूकण में ई आवै...।

थूं आ तो नीं सोचै
ऐ रूपलै प्रेम रा
मारग सुगम-सोरा है
अरे गेला, सुजाण
आं में तो बै कांटा है
जिण में अळूझ‘र मन रा
किरचा-किरचा खिंड जावै...।