भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

134 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:10, 31 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वारिस शाह |अनुवादक= |संग्रह=हीर / व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हीर आखया वाड़ के फले अंदर गल पा रसा मुंह घुट घतो
लैके कुतके कुढन माछियां दे धड़ धड़े ही मार के कुट घतो
टंगों पकड़ के लक विच पा जफी किसे बोबड़े दे विच सुट घतो
मारो एसनूं लाके अग्ग झुगी साड़ बाल के चीज सब लुट घतो
वारस शाह मियां डाहडी भंवरी दा जे कोई वाल दिसे सब पुट घतो

शब्दार्थ